Bihar Niyojit Teachers ने पोल खोल कर रख दी, आखिर क्यों उन्हें नहीं मिल रहा समान वेतन | Must Watch

46 thoughts on “Bihar Niyojit Teachers ने पोल खोल कर रख दी, आखिर क्यों उन्हें नहीं मिल रहा समान वेतन | Must Watch”

  1. सभी टीचर को नौकरी से निकाल देना चाहिए और उनके जगह दूसरी नई टीचर को बहाली लेना चाहिए वह ज्यादा अच्छा है एक तो पढ़ाने नहीं आएगा और दूसरा सैलरी डबल चाहिए तो प्लीज न्यूज़ आप जो दिखा रहे हैं सरकार तकिया पहुंचाई है कि किसी भी टीचर का वेतन ना बढ़ाया जाए

  2. Jo log teacher ko blame Kar rahe ho,?? Read here..https://vkvisu.com/बिहार-शिक्षक-का-जीवन-life-of-bihar-teacher/

  3. Ye thhandi me sub mahila teacher swetar bunne ka Kam karti he bachhe sub Kya kar rha he inko usse matalab nahi he school ka time hoga Ghar chal degi

  4. Cm sahab Sabse pehle in sabhi ka aap exam lijiye Jo pass krega usko dijiye nahi pass kre sidhe Ghar bhej dijiye school me Ja karke ye sab Kya karte sabhi ko malum he Jisko India ka pm Pta nahi he aur bo 40000 thousand mangte ho saram aani chahiye

  5. Pahle sabhi school ki janch hokaun teacher padhata hai kaon nahi padhate hai tab betan de jitna halla karte hai utna padhate nahi

  6. सर अतिथि शिक्षकों के हित में भी कुछ बात किया जाए बिहार के अतिथि शिक्षक आज लगभग मृत्यु की कगार पर आ चुकी है 6-6 महीने के वेतन मिलता है और जो मिलता भी है वह इतना कम कि जिनसे उनके परिवार का भरण पोषण ना हो सके जून 2019 के महीने में मात्र ₹8000 शिक्षकों को वेतन मिला है हम शिक्षक एमएससी तथा बीएड योगिता धारी है क्या इतना वेतन हमें मिलना उचित है

  7. जब cm का दूसरा नाम ही पलटुराम है इनसे कोई भी ऊमीद नही है ।अकेले चुनाव में आने का हिम्मत भी नही है इसलिये ये पलटु राम bjp rjd करते रहते है। इनकी पार्टी को वोट दे कर बिहार को गरीब और कमजोर बनाना होगा। ये cm अहंकारी और dictator है।

  8. तुम ही लोगों के ने पैसा में साइकिल पोशाक और बच्चे का खाना पीना

  9. अभी भी बच्चो का कौन सा भविष्य सुधर रहा है, जिस तरह सभी सरकारी विभागों का निजीकरण हो रहा है क्या लगता है भविष्य में रोजगार की गारन्टी है।
    ठेके पर मजदूरी करवाया जा रहा है आज सरकार द्वारा, सभी तरफ विभागों में एक अधिकारी,कर्मचारी 3-3, 4-4 की प्रभार लिए हुए कार्य कर रहे है, जहा 10 शिक्षको की जरुरत है वहां सिर्फ 4 शिक्षक कार्य कर रहे है वो भी स्वतंत्र रूप से कार्य नहीं कर पा रहे है, तो क्या कहियेगा सिर्फ शिक्षक ही जिम्मेवार है क्या इसके लिए, बाहर से देखने में बहुत खूबसूरत लग रही है ब्यवस्था मगर कभी अंदर आ गए तो पता चलेगा कि गन्दगी कितनी है और किस मज़बूरी में सब कार्य हो रहा है।

  10. Etne dande maro salo ko ki gaad khun2 ho jaye .. merit kuchh nhi salary lakho me chahiye. Enpe criminal act lagu kar ke case kro..

  11. Chhor do naukri dusri naukri karo …kyuki pata hai aapko ki ye naukri number ke adhar pe mil Gaya koi competitive exam lar nahi sakte

  12. are chodu news reporter…zara kuch master se question poochna zara jo aayen hain saman kaam ka saman vetan ke liye unse

  13. सब पाटी को गाली देते हो तुम लोग साले तेगला हो कुछ भी पढाने नहीं आता है

  14. शुक्र मनाए की आपको रोजगार मिल गया नहीं तो बकरी पालते

  15. जिसको टेबल नहीं आता है उसको कितना वेतन चाहिए

  16. Vivek patel tmko. Abhi pta ky hai be ki kon kitna payment deti hai 60 parcent central sarkar deti or 40 parcent mila ke rajay sarkar milake payment deti hai

  17. ईन अनपढ़ गवार शिक्षकों को मार कर गोड़ हाथ तोड़ दो। इस साले अनपढ़ गवार पैरवी के बल पर मुखिया द्वारा और नगर अध्यक्ष द्वारा बहाल हो गए और जो पढ़े लिखे लोग थे आज सड़क पर हैं और कोर्ट के चक्कर लगा रहे हैं। और इन चुचियों को ₹100000 वेतन चाहिए।
    सालों को शर्म नहीं आ रहा है की कोर्ट से हार कर लात जूता खा रहे हो। अरे साले शिक्षामित्रों लात जूता खा कर स्कूल में जाकर बच्चों को क्या मुंह दिखाओगे?
    2003 और 2005 के शिक्षामित्र नियोजन में सभी मुखिया अपने परिवार के लोगों को या अपने जात के लोगों को, जो अनपढ़ गवार थे, और दास काटा करते थे, उसी को बहाल किया है। और यही लोग सबसे अधिक आंदोलन कर रहे हैं।
    नीतीश जी इन लोगों को बर्खास्त कीजिए जनता आपके साथ है

  18. इन नेताओं का भी exam लिया जाय जो बिना bed शिक्षामंत्री बिनाMBA वित्त मंत्री बिना MBBS स्वावथय मंत्री और बिना कुछ खेल मे पदक लिए खेल मंत्री बन जाते हैं और जब अपना वेतन बढ़ाना होता है सिर्फ मेज थपथपाते हैं जीवन भर पेंशन पाते है बिना गुरु के कोई पढ़ नही सकता और गाली दे रहे हो बेशर्म कभी नेताओं पर भी सोचो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *